पौधों में उभरा
सीताओं का रूप
पछुआ के झोंकों से
हिल उठती धूप

बैंगनी-सफ़ेद बूटियों की हिलकोर
पीले फूलों वाली छींट सराबोर

ओस से सनी
चिकनी मिट्टी की गंध
पाँवों की फिसलन
बन जाती निर्बन्ध

शब्द-भरी नन्हीं चिड़ियों की बौछार
लहराकर तिर जाती आँखों के पार

मेड़ के किनारे
पगडंडी के पास
अनचाहे उग आती
अजब-अजब घास

इक्का-दुक्का उस हरियाली के बीच
कुतरती गिलहरी, फिर-फिर दानें खींच

पकने में होड़ किए
गेहूँ की बाल
बथुए की पत्ती
मूंगे जैसी लाल ।

बथुए की कच्ची पत्ती हरी होती है,पर पकने पर वह एकदम लाल हो जाती है ।


About Jagdish Gupt


Dr. Jagdish Gupt (Hindi: डा. जगदीश गुप्त) was a well-known poet of the Chhayavaad (छायावाद) generation, a period of romanticism in Modern Indian Hindi poetry. Read more...

Poet of the day

Edward George Dyson was an Australian poet, journalist and short story writer.

He was born at Morrisons near Ballarat in March 1865. His father, George Dyson, arrived in Australia in 1852 and after working on various diggings became a mining engineer, his mother came from a life of refinement in...
Read more...

Poem of the day


J'aime ton nom d'Apollonie,
Echo grec du sacré vallon,
Qui, dans sa robuste harmonie,
Te baptise soeur d'Apollon.

Sur la lyre au plectre d'ivoire,
Ce nom splendide et souverain,
Beau comme l'amour et la gloire,
Prend des résonances d'airain.

Classique, il fait plonger les...
Read more...